STRANGERS

They come and go and leave their memories and desire of presence. I never felt short of them or so, but for my life was always so dense What a divine moment, I remember ! faintly rather When in the green september I met her on Leaves and feather. Her face was so bright for […]

Read More STRANGERS

LOST CHILDHOOD

I SAW HER DREAMS, I HEARD HER SCREMS. I SAW HER EYES SO BRIGHT, I FELT IN MY HEART HER PLIGHT WHAT SIN HAD SHE COMMITTED? IN THIS LIFE HAD SHE KNITTED. IN HER STROLL WERE ALL THOSE SAD FEELINGS. I DON’T KNOW IF HER WOUNDS WOULD EVER GET HEALING. SHE NEEDED TOYS AND BOOKS. […]

Read More LOST CHILDHOOD

सनम

कब तक अकेले रहोगे इस बिराने में, तुम एक आशियाना क्यों नहीं बना लेते? तुम्हे बफा की आदत है, तुम हमें अपना सनम क्यों नहीं बना लेते?

Read More सनम

रूह हो तुम

सुबह हो तुम चेहरे पे ताज़गी, जीवन में मुस्कान लाती हो।🌅 मध्याह्न मैं तेज़ गरमी हो तुम रोम रोम में , ऊर्जा का संचार करती हो।☀️ तुम सांझ हो मेरे जीवन की रूचि को, मेरे जीने के आसार से जोड़ती हो,🌄 हो ना हो रात हो तुम रात्रि की ठंडक , सुकून की नींद हो […]

Read More रूह हो तुम

ऋतु

सुन तू मुस्कुराया कर, धूप में जैसे खिलता है फूल ☀️ उसकी तरह तू खुद को भी महकाया कर सुन तू मुस्कुराया कर हवाओं में जैसे उड़ती हैं पत्तियां 💨 तू भी ख़ुद को बेफिक्र सा उड़ाया कर सुन तू मुस्कुराया कर बारिश हो तो भीग जाया कर 🌧️ हाथ थाम मेरा फिसल जाया कर, […]

Read More ऋतु

दर्मियां

।। ढलता और उगता हुआ सूरज भी राज लिए बैठा है, मेरी आंखो मैं तेरी रूह छुपाए हुए बैठा है, शाम की चाय की चुस्की और सुबह बिस्तर की करवटों में तेरी मौजदूगी को लिए बैठा है, यह ढलता और उगता हुआ सूरज मेरे तेरे ना जाने कितने राज लिए बैठा है ।।

Read More दर्मियां